फाइनांस राष्ट्रीय

चालू नाणाकीय वर्ष में, वास्तविक जीडीपी में 10.6% की गिरावट की संभावना है।

भारत की स्टेट बेस (G) रिसर्च रिपोर्ट – इको रेट का अनुमान है कि भारत का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) चालू वित्त वर्ष 2020-21 में 10.6 प्रतिशत कम हो जाएगा।  इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में देश की अर्थव्यवस्था में रिकॉर्ड 7.5 प्रतिशत की कमी आई है।  पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में आर्थिक विकास दर 7.5 फीसदी थी।  इससे पहले, मैंने एसबीआई-ईकोरप में वास्तविक जीडीपी में 7.5 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान लगाया था।  पिछले वित्त वर्ष की जनवरी-मार्च की चौथी तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर 7.1 फीसदी थी।  एसबीआई की शोध रिपोर्ट में कहा गया है, “हमारा शुरुआती अनुमान है कि चालू वित्त वर्ष के सभी चार तिमाहियों में वास्तविक जीडीपी में गिरावट आएगी। पूरे वित्त वर्ष के लिए जीडीपी में 10.6 प्रतिशत की गिरावट आएगी।”  तीसरी तिमाही में यह 5 से 10 फीसदी के बीच होगा, जबकि असली जीडीपी चौथी तिमाही में दो से पांच फीसदी घट जाएगी।

रिपोर्ट में कहा गया कि कोविद -12 के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए 4 मार्च, 2020 से देश में देशव्यापी तालाबंदी की गई, जिससे जीडीपी में गिरावट आई।  हालांकि, यह गिरावट बाजार और इसके अनुमानों से अधिक है।  रिपोर्ट में कहा गया है कि निजी एंड-यूज़ कॉस्ट (PFCE) में वृद्धि उम्मीद के मुताबिक धीमी हुई है।  कोविद -12 के कारण, जीवन की अधिकांश आवश्यकताओं की खपत कम हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *