राष्ट्रीय

भारत की स्वदेशी कोरोना वैक्सीन का काम कहा पहोचा जाने ।

कोरोना वायरस को रोकने के लिए भारत बायोटेक द्वारा विकसित किए जा रहे स्वदेशी कोवासीन को परीक्षण के दूसरे चरण के लिए दवा नियामक द्वारा अनुमोदित किया गया है। सूत्रों के अनुसार, टीका दूसरे चरण में प्रवेश के लिए बिल्कुल तैयार है। दूसरे चरण में कोवेक्सिन का परीक्षण सोमवार 6 सितंबर से शुरू हो सकता है।

भारत बायोटेक के इस टीके का पहले चरण में देश के कुछ अलग-अलग हिस्सों में परीक्षण किया गया है। स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक ने एक बयान में कहा कि भारत के बायोटेक वैक्सीन पर 6 सितंबर को स्वास्थ्य विशेषज्ञों के बीच एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग आयोजित की गई, जिसमें परीक्षण के दूसरे चरण में वैक्सीन भेजने पर सहमति बनी। अब, परीक्षण के दूसरे चरण में, 380 वोलीयनटरस पर टीका का परीक्षण किया जाएगा। वैक्सीन की देने के बाद, अगले4 दिनों के लिए सभी वोलीयनटरस के स्वास्थ्य की जांच की जाएगी। परीक्षण के दूसरे चरण में भारत का पहला स्वदेशी कोरोना वैक्सीन भेजने की तैयारी चल रही है। परीक्षण के दूसरे चरण की शुरुआत के साथ, पहले चरण की प्रक्रिया भी चल रही है। भारत में 4 मिलियन से अधिक लोग अब तक कोरोना से प्रभावित हैं।

टीके की प्रभावशीलता और शरीर में एंटीबॉडी के स्तर को निर्धारित करने के लिए पहले से टीकाकृत स्वयंसेवकों से रक्त के नमूनों का उपयोग किया जा सकता है। भारत बायोटेक द्वारा इस टीके के परीक्षण के पहले चरण में कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया।